FOLLOW US

FOLLOW US

इनपुट डिवाइस क्या है हिंदी में - इनपुट डिवाइस के उदाहरण | Hindiforyou.in

इनपुट डिवाइस क्या है ? अगर यह सवाल आपके दिमाग में, कभी आया है। तो आज आप बिल्कुल सही आर्टिकल पर आए हैं इस आर्टिकल को Read करने के बाद कंप्यूटर इनपुट डिवाइस के बारे में पूरी जानकारी मिल जायेगे और इनपुट डिवाइस के उदाहरण तथा इनपुट डिवाइस के बारे में आपके सभी सवाल खत्म हो जाएंगे।

आप में से कुछ लोगों को अगर यह पता है कि यह इनपुट डिवाइस क्या है? तो यह अच्छी बात है। पर इस आर्टिकल में आपको इनपुट डिवाइस के साथ-साथ यह भी जानने को मिलेगा कि इनपुट डिवाइस कितने प्रकार के हैं परिभाषा तथा इनपुट डिवाइस के उदाहरण क्या है यह सभी जानकारी संपूर्ण प्राप्त होगी।

तो चलिए बिना किसी देरी के जानते हैं कि यह कंप्यूटर इनपुट डिवाइस क्या होता है?(Input Device Kya Hai)इनपुट डिवाइस के उदाहरण

इनपुट डिवाइस क्या है ?, इनपुट डिवाइस के उदाहरण, इनपुट डिवाइस (What is Input Device?) - Hindiforyou.in

इनपुट डिवाइस क्या है? (Input Device Kya Hai?)

इनपुट डिवाइस एक प्रकार का Hardware Device होता है।  जिसकी मदद से हम कंप्यूटर से Communicate कर पते हैं ये डिवाइस कंप्यूटर को इनपुट या निर्देश प्रदान करने के लिए प्रयोग किए जाते हैं और इन्हीं निर्देशों को पाकर कंप्यूटर कार्य करता है।

सरल भाषा में कहा जाए, तो ये कुछ ऐसे डिवाइस होते हैं। जो कंप्यूटर से किसी Socket के द्वारा जुड़कर कंप्यूटर को कार्य करने के लिए आदेश प्रदान करते हैं और इन आदेशों को पाकर कंप्यूटर कार्य कर पता हैं।

इनपुट डिवाइस के द्वारा दिये आदेश के अनुसार जब यह कार्य समाप्त हो जाता है। तब इस पूरा किये हुए कार्य को Output Device के जरिए हमारे सामने  दिखाया जाता है।

इनपुट डिवाइस की परिभाषा (Definition of Input Device)

इनपुट डिवाइस से अभिप्राय उन सभी यंत्रों से है। जो कंप्यूटर को किसी भी प्रकार का कार्य करवाने के लिए हमारे (मनुष्य) द्वारा दिए गए कार्य के आदेशों को Computer System तक भेजता हैं। उन सभी यंत्रो को हम इनपुट डिवाइस कहते हैं।

इनपुट डिवाइस के प्रकार (Types of Input Device)

इस Article में हम ने जान लिया है। कि यह इनपुट डिवाइस क्या है? तो हमारे लिए यह जानना बहुत जरूरी हो गया है कि यह कितने प्रकार के होते हैं और यह भी जानेंगे की इनपुट डिवाइस के उदाहरण वैसे तो Input Device अनेक प्रकार के होते हैं। जिन्हें हम Multi purpose तथा Single Purpose के आधार पर बांट सकते हैं।

Input Device मुख्य चार भागों में बांटा गया है।

1.) Typing                       2.)Pointing or Cursor
3.) Scanning                   4.) Audiovisual

तो चलिए इन चारो के बारे में जाने 

Typing Input Device

ये वे Input Device होते हैं। जिनके प्रयोग से हम कुछ अंकों, अक्षरों तथा Symbols के बटनों को दबाकर कंप्यूटर को निर्देश दे सकते हैं। और इस कार्य के लिए मुख्य रूप से Keyboard नामक इनपुट डिवाइस का प्रयोग किया जाता है।

कीबोर्ड (Keyboard)

यह एक प्रकार का टाइपिंग इनपुट डिवाइस है। इस डिवाइस में 101 से 108 या उससे अधिक Keys व बटन पाए जाते हैं। और इन keys के प्रयोग से ही हम कंप्यूटर को निर्देश दे पाते हैं यह सभी Keys किसी ना किसी Special अंक, Alphabate, Symbol आदि के लिए प्रयोग किया जाता है।

कंप्यूटर कीबोर्ड में इन keys व बटन के कुल 5 प्रकार होते हैं जैसे

1.) Alpha Numericial Keys:-  ये keys कीबोर्ड के मिडिल में होती हैं इन keys में Alphabet (A - Z), Tab, Enter, Numeric key (0-9), Symbols होते हैं। इनका प्रयोग किसी भी प्रकार की Essay typing , note typing  आदि के लिए किया जाता है

2.) Numiric Keys :- ये Keys कीबोर्ड के Right Side में होते हैं। इन Keys कि कुल संख्याएं 17 होती हैं, जिसमें (0-9)  की संख्या तथा Mathmatice के Symbol के साथ Enter Key भी होती है। इनका प्रयोग Calculation के लिए किया जाता है।

3.) Cursor Keys :- इन Keys  की कुल संख्या चार होती है। जो मुख्य रूप से चारों दिशाओं को दर्शाती हैं UP, DOWN, LEFT, RIGHT इन keys का प्रयोग कंप्यूटर के करसर या Poniter को up, down, right, left करने के लिए किया जाता है। जिसे हम किसी फाइल या आइकॉन पर कर्सर को ले जा सकते हैं।

4.) Function Keys :- इन keys की कुल संख्या 12 होती हैं। जो कीबोर्ड के सबसे ऊपर पाए जाते हैं इन Keys में  F1 से लेकर F12 तक के नाम के Keys होते हैं जिनका प्रयोग किसी विशेष Function तथा कार्य को करने के लिए किया जाता है।

इन Keys के कार्य अलग-अलग सॉफ्टवेयर के हिसाब से बदलते रहते हैं। मुख्य रूप से F1 से F12 keys का प्रयोग इस फंक्शन को करने के लिए किया जाता है।

F1 - इस Key के प्रयोग से हम चल रहे, सॉफ्टवेयर के Help Centre को Open कर सकते हैं।
F2 - इस Key को दबाने से हम किसी भी Icon, File, Folder का Rename कर सकते हैं।
F3 - इस Function key को Browser में दबाने से Search Tool Open हो जाता है।
F4 - इस Key को अगर Computer Window पर दबाया जाए, तो इससे कंप्यूटर में कुछ नहीं होता परंतु अगर आप ALT + F4 दोनों को एक साथ क्लिक करें। तो कंप्यूटर में चल रहे एप्लीकेशन बंद हो जाता है तथा कंप्यूटर Shutdown के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।
F5 - इस Function key का मुख्य रूप से प्रयोग कंप्यूटर सिस्टम को Refresh करने के लिए किया जाता है।
F6 - इस Function key के प्रयोग से हम Laptop के Volume को कम कर सकते हैं। और कंप्यूटर Browser में सर्च बॉक्स और Tab Select करने के लिये इसका इस्तेमाल किया जाता हैं।
F7 - इस Function key का प्रयोग M.S Word, डॉक्यूमेंट फाइल में लिखे हुए Text की Grammer Mistake को Check करने के लिये किया जाता हैं।
F8 - इस Function key का प्रयोग कंप्यूटर को स्टार्ट करते समय किया जाता है जिसमें हम Safe Mode में जा सकते हैं।
F9 - इस Key का प्रयोग M.S Word में Document को Refresh करने के लिए किया जाता है।
F10 - इस Function key का प्रयोग Shift + F10 के साथ RIGHT MENU को OPEN करने के लिये किया जाता हैं।
F11 - इस Key का प्रयोग किसी भी सॉफ्टवेयर को फुल स्क्रीन मोड में चलाने के लिए जगह जाता है।
F12 - इस Key का प्रयोग M.S Word में किसी भी फाइल को Save करने के लिए किया जाता है।

5.) Special Purpose Keys :- यह Keys विशेष कार्य को करने के लिए प्रयोग में लाई जाती हैं इन Keys में  Ecs, End, Start,Volume, Home, Delete BUTTON आते हैं। जिनका प्रयोग किसी निश्चित कार्य को करने के लिए किया जाता है।

Cursor And Pointing Input Device

यह वे इनपुट डिवाइस होते हैं। जिनके प्रयोग से हम किसी भी फोल्डर या प्रोग्राम को Open करने के लिए किया जाता है वैसे यह कार्य Computer Keyboard द्वारा भी किया जा सकता है परंतु ऐसा करने में बहुत समय लगता हैं। इन Pointing Device से यह कार्य बहुत जल्दी हो जाता है इन डिवाइस के उदाहरण नीचे दिए गए हैं।

Mouse

यह इनपुट डिवाइस आमतौर पर सभी कंप्यूटर में प्रयोग किया जाता है। इस डिवाइस की सहायता से हम किसी भी फाइल, फोल्डर को कुछ Click में Open कर सकते हैं। वह भी बहुत आसानी से,
इस डिवाइस के प्रयोग से एक Pointer कंप्यूटर स्क्रीन में आ जाता है। और जब माउस को हम जिस दिशा में Move करते हैं यह Pointer भी स्क्रीन में उस दिशा में Move होता है। जिसे हम किसी भी आइकन को Select करके Open कर सकते हैं। इस Device में कुल 3 बटन होते हैं Left ,Right ,Scrolling Key.

इन Keys  के प्रयोग ऐसे होते हैं ?
Left Key-

  • Single Click - Left Key के Single Click से हम किसी भी आइकन,फाइल को सेलेक्ट कर सकते हैं।
  • Double Click - Left Click को Double क्लिक करने से हम किसी भी सॉफ्टवेयर, फाइल को ओपन कर पाते हैं।
  • Drag and drop - इस Left Key को दबाए रखने से हम किसी भी फाइल को उठा सकते हैं। और किसी भी अन्य फोल्डर में ले जा सकते हैं जिस से वह फाइल, फोल्डर Move हो जाता है।

Right Key-

  • Right Click -  इस key के प्रयोग से हम  किसी भी फाइल, सॉफ्टवेयर की Details और प्रोपोर्टी को देख सकते हैं।

Scrolling Key-

  • Scrolling Key - यह एक Rotating बटन होता है जिसे Rotate करने से हम किसी भी डॉक्यूमेंट के पेज को ऊपर से नीचे कर सकते हैं।


Joy Stick

जॉय स्टिक यह एक इनपुट डिवाइस है जिसके प्रयोग मुख्य रूप से कंप्यूटर गेम्स को खेलने के लिए किया जाता है। वैसे कंप्यूटर गेम को कीबोर्ड के साथ खेला जा सकता है परंतु जॉयस्टिक के साथ इन गेम को खेलना आसान होता है।

इस डिवाइस में एक Stick उभरा होती है। जो चारों दिशाओं में घुमाया जा सकता है तथा इसके साथ कुछ Key भी होती हैं यह डिवाइस कंप्यूटर गेमिंग को सरल करता है तथा उसे खेलने की गति को बढ़ाता है।

Track ball

यह एक प्रकार का माउस होता है। इसका कार्य भी माउस जैसा होता है परंतु यह डिजाइन में माउस से अलग होता है जिस तरह माउस को Move करने से स्क्रीन में Cursor मूव करता है उस प्रकार ट्रैकबॉल के ऊपर एक Ball होती है जिसे ROTATE करने से स्क्रीन पर Cursor Move करता है।

 इसे माउस की तरह हिलाना नहीं पड़ता बस इस पर दिए गए Ball के घुमाने से Cursor Move  करता है। और कंप्यूटर माउस की तरह ही इसमें बटन दिए गए होते हैं जिसे फाइल सिलेक्ट और ओपन करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

Touch Screen

टच स्क्रीन एक इनपुट डिवाइस है। जो आज के अधिकृत कंप्यूटर में प्रयोग किया जाता है अब कंप्यूटर में एक टच स्क्रीन लगाई होती है इस स्क्रीन पर हम अपनी उंगलियों को किसी Pointer की तरह प्रयोग करते हैं।

जब भी हम अपनी उंगलियों से स्क्रीन पर क्लिक करते हैं तब-तब यह एक इनपुट कंप्यूटर को भेजता है इस टच स्क्रीन के माध्यम से हम एक सिंगल टच में किसी भी फाइल डॉक्यूमेंट एप्लीकेशन को ओपन कर सकते हैं और अपनी उंगलियो के टच अनुसार चला सकते हैं।
इनका प्रयोग मोबाइल, टैबलेट में बहुत अधिक होता है।

Light Pen

यह एक प्रकार का डिजिटल डिवाइस पेन होता है। जिस से हम एक इनपुट डिवाइस भी कहते हैं लाइट पेन का प्रयोग कंप्यूटर में किसी भी ग्राफिक को ड्रा करने के लिए किया जाता है

इस पेन से हम जैसे आकार बनाते हैं वैसा ग्राफिक्स कंप्यूटर स्क्रीन में भी बनाने लगती है इस पेन का प्रयोग डिजिटल ग्राफिक, डिजाइन तथा डिजिटल सिगनेचर के लिए किया जाता है।

Scanning Input Device

Scanning Devices एक प्रकार के इनपुट डिवाइस होते हैं। जिनका प्रयोग कंप्यूटर में होता है इन डिवाइस की मदद से हम किसी भी हार्ड कॉपी डॉक्यूमेंट को कंप्यूटर Scanner से Scan करके उसे एक इनपुट के रूप में कंप्यूटर स्क्रीन पर सॉफ्ट कॉपी में दिखाता हैं।
Scanner वह डिवाइस होते हैं जो किसी भी हार्डवेयर कॉपी को स्कैन करके कंप्यूटर में सॉफ्ट कॉपी में बदल देता है।
Scanner अनेक प्रकार के होते हैं जिनके बारे में आप निचे पढ़ हैं।

स्केनर के प्रकार

OMR (Opticial Mark Reader)

यह एक प्रकार का स्कैनिंग इनपुट डिवाइस होता है जिसका मुख्य रूप से प्रयोग स्टूडेंट Exam Answer Sheet को चेक करने के लिए किया जाता है यह स्केनर पेपर पर लिखे किसी भी Dots या बिंदु को बहुत आसानी से पहचान लेते हैं

विद्यार्थी के Answer Sheet में उनके द्वारा दिए सही Answer के Dots को यह जांच लेता है और कंप्यूटर में इनपुट कर देता है कंप्यूटर में सभी प्रश्न के सही उत्तर पहले से Save होते हैं जिसे दिए इनपुट को जांच कर विद्यार्थी को अंक दिया जाता है

BCR ( Bar Code Reader)

इस डिवाइस का प्रयोग बारकोड को रीड करने के लिए किया जाता है बारकोड किसी वस्तु पर दिए 13 अंकों के साथ कुछ काले रंग की लाइंस होती हैं जिस में उस वस्तु की Detail or Information स्टोर होता है

इस डिवाइस के द्वारा बारकोड को रीड करने के लिए इसे बारकोड के ऊपर रखा जाता है और इसमें से एक लाइट निकलती है जो उस बारकोड को रीड करके जानकारी कंप्यूटर स्क्रीन पर दे देती है

MICR ( Magnetic Ink Charactor Recongnition )

यह डिवाइस मुख्य रूप से बैंकों में प्रयोग किया जाता है बैंक चेक में कुछ स्पेशल कोड होता है जिसमें (0 - 9)  तक के अंक तथा चार स्पेशल करैक्टर होते हैं और यह कोड एक स्पेशल मैग्नेटिक इंक के द्वारा लिखा जाता है जिसे सिर्फ M.I.C.R  स्कैनर रीड कर पाता है इस कारण इसका प्रयोग बैंकों में किया जाता है

Image Scanner

यह बहुत प्रचलित स्कैनर है इसका प्रयोग किसी भी इमेज डॉक्यूमेंट को स्कैन करके उसकी सॉफ्ट इमेज कंप्यूटर मेमोरी में Save कर देता है इस डिवाइस में एक फ्लैट स्केनर होती है जिस पर इमेज पेज रखा जाता है और इसको स्कैन करके कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखाया जाता है  इसका प्रयोग स्कूल-कॉलेज व्यापार बैंकों में किया जाता है

Audio Input Device

यह वह इनपुट डिवाइस होते है जो हमारी आवाज के माध्यम पर कार्य करते हैं इन डिवाइस की मदद से हम बोलकर कंप्यूटर में इनपुट दे सकते हैं

Microphone

यह एक इनपुट डिवाइस है जिसका प्रयोग हम कंप्यूटर को इनपुट प्रदान करने के लिए करते हैं इस डिवाइस की मदद से हम बोलकर कंप्यूटर को निर्देश देते हैं और कंप्यूटर इनपुट को डिजिटल डाटा में कन्वर्ट करके कार्य करते हैं इसे हम Voice Control भी कहते हैं माइक्रोफोन की मदद से हम राइटिंग भी कर सकते हैं हम अपनी आवाज में बोलते हैं जिसे कंप्यूटर डिजिटल डाटा में कन्वर्ट करता रहता है और टेक्स्ट राइट करता है यह एक सरल तरीका है कंप्यूटर को इनपुट देने का !

Conclusion

इस आर्टिकल में हमने बताया कि यह इनपुट डिवाइस क्या है? अगर आपने यह आर्टिकल पढ़ा है तो आपको पता लग गया होगा कि इनपुट डिवाइस क्या होता है इनपुट डिवाइस से संबंधित जानकारी हमने इस आर्टिकल डाली है जैसे,
इनपुट डिवाइस के उदाहरण, इनपुट डिवाइस के प्रकार इनपुट डिवाइस की परिभाषा आदि हमें आशा है कि आपके सारे प्रश्नों का उत्तर इस आर्टिकल में मिल गया होगा इनपुट डिवाइस क्या होता है यह जानकारी आप अपने परिवार व दोस्तों से जरूर शेयर करें आप को यह आर्टिकल अच्छा लगा  तो Comment करके जरूर बताए
आप का दिन शुभ रहे। धन्यवाद
जय हिन्द, जय भारत

Post a Comment

0 Comments