FOLLOW US

FOLLOW US

bit kya hai? - 32 bit vs 64 bit में क्या अंतर हैं? | Hindiforyou.In

दोस्तों, क्या आप जानते हैं कि यह बिट क्या है और इस बिट का हमारे कंप्यूटर में मोबाइल में क्या कार्य है अगर आप का जवाब नहीं है। तो आज इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि bit kya hai Hindi mein और बिट क्या कार्य करता है।

कंप्यूटर टेक्नोलॉजी के विकास के साथ-साथ कंप्यूटर के प्रोसेसर का विकास होता आ रहा है। जहां कंप्यूटर में पहले 32 बिट का प्रोसेसर आता था वहीं अब 64 बिट के प्रोसेसर मार्केट में आ गए हैं तो इन दोनों बिट मे क्या अंतर है और यह क्या कार्य करते हैं, बिट की फुल फॉर्म व bit kya hai इसके बारे में भी हम इस आर्टिकल में चर्चा करेंगे।

कंप्यूटर में किसी भी डाटा को Store करने के लिए बाइनरी डिजिट का प्रयोग किया जाता है। इन डिजिट मे (0 और 1) इन दो अंको का प्रयोग किया जाता है और इन्हीं दोनों डिजिट को हम बाइनरी डिजिट कहते हैं। इन संख्याओं को हम सीपीयू में लगा ट्रांजिस्टर की ऑन ऑफ वैल्यू से भी जानते हैं। जहां (0) से ट्रांसिस्टर ऑन को संबोधित किया जाता है। वही (1) से ट्रांजिस्टर के ऑफ को संबोधित किया जाता है।

bit kya hai? - 32 bit vs 64 bit में क्या अंतर हैं? | Hindiforyou.In

तो चलिए, जानते हैं कि यह बिट क्या है?

बिट का प्रयोग कंप्यूटर प्रोसेसर से लेकर स्टोरेज मेमोरी तक किया जाता है। स्टोरेज मेमोरी की सबसे छोटी इकाई को बिट कहा जाता है जिसे हम स्टोरेज की यूनिट भी कहते हैं। किसी एक बिट में बायनरी डिजिट के किसी एक Value 0 या 1  को ही स्टोर किया जा सकता है। इन्हीं बाइनरी डिजिट के आधार पर हमारे कंप्यूटर में सभी डाटा को स्टोर किया जाता है।

आज से कुछ समय पहले के कंप्यूटर 32 बिट प्रोसेसर पर आते थे। पर अब सभी प्रोसेसर 64 बिट पर हमें मिल जाते हैं और उस प्रकार कंप्यूटर सॉफ्टवेयर व ऑपरेटिंग सिस्टम भी हमें अलग-अलग बिट के अनुसार मिलते हैं। यह दोनों ही 32 तथा 64-bit में उपलब्ध होते हैं इसका क्या कारण यह बात इन दोनों के परफॉर्मन्स पर निर्भर करता है।


बिट क्या है? (Bit Kya Hai?)

बिट का सीधा अर्थ बाइनरी डिजिट से है। जिसमें दो Value होती हैं (जीरो और एक) इन्हीं दो वैल्यू को हम बाइनरी डिजिट कहते हैं इन्हीं की सहायता से बिट कार्य करता है। बिट स्टोरेज मेमोरी को मापने की सबसे छोटी यूनिट होती है। इस सबसे छोटी यूनिट में बाइनरी डिजिट का कोई एक अंक (0 या 1) Store किया जा सकता है।

इस प्रकार 4-bit से मिलकर एक निबल (Nibble) बनता है। जिस में चार अंको को  Store किए जा सकते हैं। तथा 8-bit से मिलकर एक बाइट (Byte) बनता है जिसमें बाइनरी डिजिट के 8 अंकों को स्टोर किया जा सकता है। इसी प्रकार स्टोरेज डिवाइस में डाटा को (जीरो और एक) के फॉर्मेट में स्टोर किया जाता है।

अगर आप जानना चाहते हैं। कि कितनी बिट से मेमोरी की अन्य यूनिट बनती है तो नीचे दिए टेबल में देखें।

Unit

Name

Storage

Bit

b

Binary Digits Single Value 0 or 1

Nibble

-

4 bit

Byte

B

8 bit

Kilobyte

KB

1024Bytes

Megabyte

MB

1024KB

Gigabyte

GB

1024MB

Terabyte

TB

1024GB

Petabyte

PB

1024TB

Exabyte

EB

1024PB

Zettabyte

ZB

1024EB

Yottabyte

YB

1024ZB


बिट की फुल फॉर्म

bit शब्द बाइनरी डिजिट को दर्शाता है। और यही बाइनरी डिजिट bit की फुल फॉर्म भी है।

जैसे - bit में लगा b - binary के b से लिया गया है। उसी प्रकार bit में लगा it - Digits से लिया गया है।


प्रोसेसर बिट क्या हैं? (Processor bit Kya hai?)

प्रोसेसर में आज दो प्रकार के बिट का प्रयोग किया जाता है। 32 बिट व 64 बिट यह बिट प्रोसेसर के आर्किटेक्चर को दर्शाते हैं। इस आर्किटेक्चर के Base पर ही प्रोसेसर और अच्छी तरह कार्य कर पाता है। अच्छे आर्किटेक्चर का प्रोसेसर ज्यादा तेजी से तथा सरलता से कार्य पूरा कर सकता है।

बिट को हम Storage Memory की सबसे छोटी इकाई के रूप में जानते हैं। उसी प्रकार एक 32 बिट का प्रोसेसर 32 बाइनरी डिजिट Value को रख सकता है तथा एक 64 बिट का प्रोसेसर 64 बाइनरी डिजिट Value को रख सकता है जो कि 32 बिट की अपेक्षा तेजी से कार्य कर सकता है क्योंकि वह ज्यादा डाटा को Store कर सकता है।

इसी प्रकार प्रोसेसर आर्किटेक्चर में अधिक बिट वाला प्रोसेसर किसी कम बिट वाले प्रोसेसर से ज्यादा बेहतर और तेजी से कार्य कर सकता है।

बिट के प्रोसेसर में चार मुख्य कार्य -

  • Memory Access
  • Memory Store
  • Data Transfer
  • Software Support

Memory Support

32-bit वाले प्रोसेसर सिस्टम में सिर्फ 4 GB RAM को ही सपोर्ट करते हैं। 4 GB से अधिक RAM Memory होने पर 32-bit प्रोसेसर उन्हें सपोर्ट नहीं करते और इसे अधिक मेमोरी होने पर उनकी गति पर कोई फर्क नहीं पड़ता।

64-bit वाले प्रोसेसर सिस्टम में 4GB से अधिक RAM को सपोर्ट करते हैं। यह प्रोसेसर लगभग 2 TB तक की RAM मेमोरी को सपोर्ट करते हैं और इतनी अधिक RAM को सपोर्ट करने के कारण यह उनका प्रयोग करके सिस्टम को एक बहुत अच्छी स्पीड प्रदान करते हैं।

Memory Storage

32-bit वाले प्रोसेसर एक समय मे बाइनरी डिजिट के 32 अंकों को Store कर पाते हैं। जिसकी वजह से यह 64 बिट की अपेक्षा कम डाटा Store कर पाते हैं। और प्रोसेसर को अधिक डाटा नहीं दे पते जिसे प्रोसेसर की स्पीड पर फरक पड़ता है।

64-bit वाले प्रोसेसर एक समय में बायनरी डिजिट की 64 वैल्यू को Store कर पाते हैं। इसीलिए वह 32 बिट की अपेक्षा ज्यादा तेजी से कार्य करते हैं। जयादा डाटा प्रोसेसर को दे पते हैं।

Data Transfer

32-bit का प्रोसेसर बड़े डाटा ट्रांसफर को 64 बिट के प्रोसेसर से अधिक समय में करता हैं। इसलिए डाटा ट्रांसफर के समय 32 बिट का प्रोसेसर अधिक समय लगाता है।

64-bit के प्रोसेसर डाटा ट्रांसफर को 32 बिट के प्रोसेसर से अधिक तेजी से करते हैं। जिसकी वजह से वह प्रोसेसर को अच्छे से डाटा और अधिक डाटा दे पाते हैं जिसे प्रोसेसर की परफॉर्मेंस अच्छी होती हैं।

Software Support

कुछ सॉफ्टवेयर 32 बिट आर्किटेक्चर को सपोर्ट करते हैं। क्योंकि उन्हें कार्य करने के लिए अधिक RAM मेमोरी की जरूरत नहीं होती और वह 32 बिट के प्रोसेसर पर आसानी से कार्य कर लेते हैं। परन्तु 64 बिट आर्किटेक्चर पर बने सॉफ्टवेयर 32 बिट प्रोसेसर को सपोर्ट नहीं करते।

कुछ सॉफ्टवेयर को 64 बिट आर्किटेक्चर पर कार्य करने के लिए बनाया जाता है। यह सॉफ्टवेयर 64 बिट को ही सपोर्ट करते हैं यह किसी 32 बिट प्रोसेसर पर कार्य नहीं करते क्योंकि इन्हें अधिक RAM मेमोरी की आवश्यकता होती है। पर एक 32 बिट आर्किटेक्चर पर बना सॉफ्टवेयर 64 बिट के प्रोसेसर को करता है।


32 बिट क्या हैं? (32-bit kya hai)

32 बिट एक प्रोसेसर का आर्किटेक्चर होता है। जिस आर्किटेक्चर पर प्रोसेसर को बनाया जाता है। इसी 32 बिट आर्किटेक्चर के Base पर हमारे ऑपरेटिंग सिस्टम तथा सॉफ्टवेयर को भी बनाया जाता है। व बनाये गये आर्किटेक्चर पर ही ये सॉफ्टवेयर कार्य करते हैं और 64 बिट पर बने ऑपरेटिंग सिस्टम तथा सॉफ्टवेयर किसी  प्रोसेसर पर कार्य नहीं करते करते।

एक 32 बिट का प्रोसेसर 4GB से अधिक RAM मेमोरी को सपोर्ट नहीं करता इसलिए 32 बिट के सिस्टम में 4GB से अधिक मेमोरी का प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि इस से परफॉर्मेंस पर कोई फर्क नहीं पड़ता। तथा एक 32 बिट का प्रोसेसर एक समय में 32 Digit Value को ट्रांसफर कर सकता है।

32 बिट वाला प्रोसेसर हमेशा 32 बिट वाले ऑपरेटिंग सिस्टम को सपोर्ट करता है। और यह ऑपरेटिंग सिस्टम 32 बिट वाले सॉफ्टवेयर को सपोर्ट करते हैं। अगर इस सिस्टम में 64 बिट के किसी सॉफ्टवेयर को चलाया जाए तो वह सॉफ्टवेयर कार्य नहीं कर पाता।

32 बिट वाले प्रोसेसर में कम मेमोरी सपोर्ट तथा Slow डाटा ट्रांसफर के कारण इस प्रोसेसर की स्पीड 64 बिट वाले प्रोसेसर से Slow होती है।


64 बिट क्या हैं? (64-bit Kya Hai?)

64 बिट प्रोसेसर का एक आर्किटेक्चर होता है। 64 बिट पर बने ऑपरेटिंग सिस्टम तथा सॉफ्टवेयर इस आर्किटेक्चर के प्रोसेसर पर कार्य कर सकते हैं तथा इसके साथ 32 बिट के सॉफ्टवेयर व ऑपरेटिंग सिस्टम भी 64 बिट के प्रोसेसर पर कार्य कर सकते हैं।

एक 64 बिट का प्रोसेसर 4GB से अधिक RAM मेमोरी को सपोर्ट करता है। यह लगभग 2 TB RAM मेमोरी को सपोर्ट करता है और ज्यादा RAM मेमोरी होने के कारण यह प्रोसेसर तेजी से कार्य कर पाते हैं जिसे इनकी डाटा ट्रांसफर स्पीड बढ़ती है।

64 बिट का प्रोसेसर एक समय में 64 बाइनरी डिजिट Value को स्टोर कर सकता है। इसलिए यह 32 बिट प्रोसेसर से अधिक तेजी से कार्य कर सकता है और ज्यादा डाटा स्टोर कर सकता है।

64 बिट वाले प्रोसेसर 64 बिट के ऑपरेटिंग सिस्टम तथा सॉफ्टवेयर को सपोर्ट करते हैं। इसके साथ यह 32 बिट के ऑपरेटिंग सिस्टम तथा सॉफ्टवेयर को भी सपोर्ट करते हैं।64 बिट वाले प्रोसेसर अधिक मेमोरी स्टोर कर सकते हैं तथा अधिक RAM मेमोरी को भी सपोर्ट करते हैं इस कारण इन प्रोसेसर की कार्य क्षमता 32 बिट वाले प्रोसेसर से अधिक होती है।


Conclusion

इस आर्टिकल में हम ने बताया हैं कि यह bit kya hai तथा बिट की फुल फॉर्म क्या है? और इस बिट से जुड़ी अनेकों जानकारी आपने इस आर्टिकल में जानी होगी। कंप्यूटर टेक्नोलॉजी के अन्य जानकारी पाने के लिए आप हमारी साइट के अन्य आर्टिकल पढ़ सकते हैं और साथ अच्छी-अच्छी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

आज कंप्यूटर का प्रयोग सभी करते हैं। और इसके बारे में हमे जानकारी होना भी आवश्यक है क्योंकि इससे हमारी कंप्यूटर Knowledge बढ़ती है और जानकारी प्राप्त होती है।

हम आशा करते हैं। कि आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा तथा आपको इस आर्टिकल से जानकारी मिली हो, तो कमेंट करके जरूर बताएं और अगर हम से इस आर्टिकल में कोई कमी रह गई हो तो वह भी कमेंट करके जरूर बताएं।

ऐसे ही इंट्रेस्टिंग टॉपिक्स पर आर्टिकल पढ़ने के लिए हमारे Site पर Subscribe करे।

धन्यवाद, आप का दिन शुभ रहे।
जय हिन्द, जय भारत

Post a Comment

0 Comments